தமிழ்செக்ஸ் டவுன்லோடிங்

सरखेल कान्होजी आंग्रे

सरखेल कान्होजी आंग्रे, डॉन'ट लव दारू मोर दॅन एनितिंग....लीव दारू, लिव लाइफ.....यॅ...लीव दारू, लिव लाइफ..आइ गॉट इट...आइ गॉट इट....लीव दारू, लिव लाइफ....लीव दारू...लिव लाइफ....यही मैं बहुत देर तक बोलता रहा और तब तक बोलता रहा, जब तक कि एश ने मेरा मुँह बंद नही किया.... व्हेनएवेर आइ क्लोज़ माइ आइज़ , आइ सॉ मेनी फेसस इन माइ माइंड बट वन फेस ऑल्वेज़ रिमेन सेम इन माइ माइंड, इन माइ हार्ट......

क्यूँ बे लौडे,तू क्या समझा कि पीछे के रास्ते से आएगा तो बच जाएगा और तुझमे इतनी हिम्मत कहाँ से आई जो तूने सिगरेट को फेक दिया... उसने बैठे बैठे टांगे फैला दीं और में उसकी फैली टाँगों के बीच बैठा और अपने मुँह को उसकी योनि के मुहाने पर ले गया

वो इधर ही आ रहा है...जब मैं सामने मुड़कर अपना पेट भरने लगा ,तब अरुण ने कहाचल भाग लेते है,वरना साला बहुत मारेगा... सरखेल कान्होजी आंग्रे अरुण के हाथ मे हॉकी स्टिक आते ही एक हाथ से अपना बॅग उठाकर मैं वहाँ से भागा और मेरे पीछे अरुण भी भागा...पहले मैं सीढ़ियो से नीचे उतरकर खड़ा हो गया और ये सोचा कि शायद अरुण वापस रूम की तरफ चला गया है...लेकिन हाथ मे गदा लिए अरुण सीढ़ियो से नीचे उतरा और यमराज की स्टाइल मे अपने दाँत दिखाते हुए बोला

सेक्सी कहानी और वीडियो

  1. कुछ भी बुरा नही है...मैं तो ऐसे ही जनरल नालेज के लिए क्वेस्चन पुच्छ रहा था ,तुम कार चलाओ...बोलकर मैने अपनी आँखे बंद कर ली
  2. लेकिन इस वक़्त अभी जो मेरे ख़याल मे आ रहा था, वो निशा के बारे मे था,...दारू और निशा दोनो ने अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया था..... बिजनेस कैसे करते हैं
  3. हॉस्टिल के बाहर मैं तक़रीबन आधा घंटा तक टहलता रहा और फिर वापस हॉस्टिल आ गया...हॉस्टिल आकर मैने अरुण और सौरभ को भी अपना ये प्लान बताया ,लेकिन उन्होने सॉफ मना कर दिया की वो 6 बजे नही उठेंगे,,.. तुम दोनो के रहीस बाप 20 भी नही देते क्या,जो तेरी वो चुहिया फ्रेंड 5 के लिए उस कॅंटीन वाले से लड़ रही है...और तू उसे समझाने की जगह बोतल मे स्ट्रॉ डालकर दारू के शॉट मारे जा रही है...इसलिए मैं तुझे बिल्ली बोलता हूँ...
  4. सरखेल कान्होजी आंग्रे...कॉलेज ख़त्म होने बाद मैं पार्किंग की तरफ बढ़ा ,जहाँ एश अपनी कार के बाहर खड़े होकर मुझे इधर-उधर ढूँढ रही थी और दिव्या जा चुकी थी.... अरुण ने चलते-चलते अपनी सारी प्रॅक्टिकल कॉपी एक हाथ मे और ड्रॉयिंग शीट को दूसरे हाथ से पकड़ लिया और टेबल पर बैठे उस फ़ौजी के पास जाकर बोला...
  5. कितनी बार कहा है की एश पर ध्यान मत दे, साली ने गौतम के लिए सुसाइड तक कर लिया था तो सोच ही सकता है कि उनका लव लेफ्ट साइड वाला होगा... तुम मे से कोई एक बाहर आओ...साहब को बात करनी है...सलाँखो के दूसरी तरफ से हवलदार ने गेट खोला और हमसे बोला....

तिब्बत की राजधानी कहां है

तो अब आप याद कर लीजिए, और मुझे भी याद दिला दीजिए.. रश्मि ने बहुत ही धीमी आवाज़ में यह कहा – फुसफुसाते हुए नहीं, बस दबी हुई आवाज़ में!

‘धत्त तेरे की..’ वो नंगा होते ही लगता है सपना देखने लगा था! एक पल को वो हाथों से अपने छुन्नू को छुपाने को हुआ, लेकिन फिर रुक गया – बीवी से क्या छुपाना? कौन दोस्त......ये, इनकी बात कर रहे हो आप...अरुण और सौरभ की तरफ उंगली दिखाते हुए मैं बोलाइनसे मेरी लड़ाई हो गयी है...वो भी इसलिए क्यूंकी ये मुझे कह रहे थे कि मैं आंकरिंग मे ना जाउ ,लेकिन मैं गया...

सरखेल कान्होजी आंग्रे,अब तुम अपने बात करने का लहज़ा सुधार लो और आज से हर दिन फर्स्ट पीरियड मे दिखना...क्यूंकी फर्स्ट पीरियड फ्लूईड मेकॅनिक्स की है...

बेटा,टॉपिक एंड नही हुआ है..अभी हमने जो एक्शन किया है उसका अकॉरडिंग तो न्यूटन'स थर्ड लॉ हमारे एक्शन के बदले उसके बराबर एक रिएक्शन तो आएगा ही और वो भी ऑपोसिट डाइरेक्षन मे...बोले तो तलवार अब हमारे गर्दन के उपर लटकने वाली है...जिस टवल से सौरभ अपना चेहरा सॉफ कर रहा था उसे मेरे फेस पर फेक्ते हुए कहा

कुंदन का पता और फ़ोन नंबर ले कर, सिटी हॉस्पिटल से मैं जैसे ही बाहर निकला, मेरे फ़ोन की घंटी बजने लगी। अनजाना नंबर था – मैंने फोने करने वाले को मन ही मन कोसा, ‘लोग कहीं भी पीछा नहीं छोड़ते... मुझे लगा की किसी क्लाइंट का फ़ोन होगा। मैंने फ़ोन उठाया, और बहुत ही अनमने ढंग से जवाब दिया, हल्लो!एपी स्टेट सत्ता किंग रिजल्ट

रात में खाने के बाद तक फरहत घर पर ही थी, और संभव है की देर रात अपने घर गयी हो। रात में मेरे आँख एक बार खुली थी, लेकिन मैंने उसको वहाँ नहीं देखा। सवेरे जब आँख खुली तो उसको अपने बगल बैठा पाया। उन दोनो को छोड़ कर खड़े हो जाओ ,लगता है साहब आ रहे है...मेरे उपर इतनी देर से जो हाथी का वजन लिए हुए बैठा था, वो आवाज़ सुनते ही मेरे उपर से हट गया और एस.पी. को सलाम करने की पोज़िशन मे आ गया.....

न्सुई का एलेक्षन लड़ेगा...वहाँ से जाते-जाते पीछे पलट कर सीडार ने मुझसे पुछा और मैने तुरंत अपना सर मुस्कुराते हुए ना मे हिला दिया....

तो इसमे क्या बुरा कह दिया...हमारी लड़ाई अच्छि-ख़ासी चल रही थी कि अरुण अपना सड़ा सा मूह बनाकर पीछे से टपक पड़ा और बोलाचल बे अरमान सिगरेट पीते है, मूड बहुत खराब है....,सरखेल कान्होजी आंग्रे ओके, देन आज से पढ़ाई शुरू.....मैं वहाँ से उठकर रूम से बाहर आया और किसी लेटेस्ट न्यूज़ की तालश मे (स्पेशली एश) भू के रूम मे घुसा...

News